Celebrity News

रणवीर शौरी की पोस्ट पर कमेंट्स कर रहे है :दिख रहा है बॉलीवुड में गुटबाज़ी और नेपोटिज्म के खिलाफ गुस्सा

ranveer sorey

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने 34 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया, सुशांत ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।लेकिन सबसे दुख की बात यह है कि आखिर क्या वजह थी कि इंडियन सिनेमा के एक एक्टर ने खुद की जान ले ली।वहीं बीते दिनों सोशल मीडिया पर बॉलीवुड का स्याह रूप सबके सामने लाने वाले रणवीर शौरी ने एक बार फिर इस बारे में खुलकर बात की है।रणवीर शौरी ने हाल ही में अपनी मन की बात सबके सामने रखी जिसके बाद लोगों में बॉलीवुड के खेमेबाजी और नेपोटिज्म के खिलाफ गुस्सा और बढ़ता नजर आ रहा है।  लोग उनकी पोस्ट पर उनके सपोर्ट में कमेंट्स कर रहे हैं।

 

रणवीर शौरी ने सोशल मीडिया यूजर के ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, ‘इस तरह के लेख निरंतर बदनामी और दुर्भावनापूर्ण पीआर अभियान का नतीजा है, जो मुझे बदनाम करने के लिए फिल्मी मोगल्स सालों से चला रखा है। मीडिया में से कोई भी सच में पुराने पुलिस और मीडिया रिकॉर्ड की जांच करने की कोशिश नहीं करेगा, जो यह बताता हो कि यह मैं था जिसे परेशान किया जा रहा था।’

यही नहीं एक पूराने इंटरव्यू में शौरी ने यहां तक कहा था कि साल 2002 से लेकर 2005 के बीच में वो देश से बाहर जाने को मजबूर हो गए थे। वजह यही थी कि उनको लेकर इतनी ज्यादा कड़वाहट भर दी गई थी कि उनका यहां रहना कठिन हो गया था। उन्होंने बताया कि उनके खिलाफ जो लोग काम कर रहे हैं वो बहुत ज्यादा पावरफुल थे।

पिछले साल रिलीज़ हुई फिल्म ‘सोनचिड़िया’ के समय भी नकारात्मक प्रचार कराने और लगातार एक शख्स को निशाना बनाकर पीआर अभियान चलाने का भी आरोप लगाया। इस आर्टिकल को लेकर भी उन्होंने कहा कि ये आर्टिकल भी वैसे ही लगातार पीआर करने के नतीजे हैं।

सोशल मीडिया पर रणवीर शौरी के ट्वीट तेजी से वायरल हो रहे हैं।आपको बता दें कि पूजा भट्ट और मनीष मखीजा ने साल 2003 में शादी एक-दूसरे से शादी की थी और साल 2014 में इन दोनों का तलाक हो गया था। वहीं रणवीर शौरी का भी अभी हाल ही में अभिनेत्री कोंकणा सेन शर्मा से तलाक हुआ है। इन दोनों साल 2010 में शादी की थी।

About the author

शुचि गुप्ता

शुचि ऑनलाइन पत्रकारिता, प्रबंधन और सामाजिक मीडिया में एक मजबूत अनुभव के साथ एक समाचार मीडिया पेशेवर हैं| उनकी ताकत में ऑनलाइन मीडिया का ज्ञान, संभावित रुझान योग्य विषयों का पता लगाना, समाचार और वेब और मोबाइल के लिए कंटेंट की दक्षता का पता लगाना शामिल है।

Add Comment

Click here to post a comment