Celebrity News

न‍िया शर्मा ने अपने फैन्स पर सुशांत स‍िंंह राजपूत केस में गुस्‍सा जाहिर क‍िया कहा क‍ि लाइम लाइट में रहने के लिए बेड पर बैठकर ट्वीट कर रहे लोग।

niya sharma

दिल्ली से ताल्लुक रखने वालीं निया ने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए एक न्यूज़ एजेंसी को बताया , ‘मैं आज से 10 साल पहले मुंबई एक न्यूज चैनल रिपोर्टर बनने का सपना लेकर आई थी, लेकिन मैं एक एक्टर बन गई।’ निया ने फिल्म इंडस्ट्री पर टारगेट किए जाने को लेकर कहा, ‘समाचार चैनल कम दिख रहे हैं और लोगों को चैट शो पर आंका जा रहा है।

टेलीविज़न इंडस्ट्री की मशहूर एक्ट्रेस निया शर्मा सुशांत सिंह राजपूत केस में हो रहे घटनाक्रम से बहुत आहत हैं। इस केस में तीन एजेंसियां शामिल हो चुकी हैं, और कंगना रनौत सहित कई फैंस ने बॉलीवुड, नेपोटिज्म और मूवी माफिया की जबरदस्त निंदा की है। हालांकि 3 माह बीत जाने के उपरांत भी सुशांत की मौत के कारणों का पता नहीं लग पाया है ।और इस केस में रिया चक्रवर्ती समेत कई स्टार किड्स को जबरदस्त हेट का सामना कर रहे है। उन्होंने आगे बताया कि न्यूज चैनल्स इतने अधिक गिर चुके हैं और लोगों को चैट सीरियल के माध्यम से जज किया जा रहा है। मुझे कभी कभी लगता है कि क्या इस देश में कोर्ट की आवश्यकता भी बची है।

निया शर्मा का कहना है कि हर कोई सुशांत केस में बोल रहा है। जबकि इस केस में सिर्फ उन्हीं लोगों को कुछ बोलना चाहिए जो इससे जुड़े हुए हैं । बाकी लोगों को शांत बैठना चाहिए ताकि जरूरी आवाजें सुनी जा सकें। लोग सिर्फ अपने बिस्तरों पर पड़े रहकर ट्वीट कर रहे हैं ताकि वे लाइमलाइट में रह सकें। जबकि इसकी कोई जरूरत नहीं है।

निया ने आगे कहा, ‘जब वे लोग बोलना बंद कर देंगे जिनकी इस केस में वाकई जरूरत नहीं है, तभी तो उन आवाजों और मुद्दों को सुना जा सकेगा जो वाकई मायने रखते हैं। हम दूसरों को नीचा दिखाने में गर्व महसूस कर रहे हैं। गड़े मुर्दे उखाड़ने में मजे ले रहे हैं। हर कोई पागल सा हो गया है। लोग तब तक बार-बार वही चीजें कर रहे हैं जब तक कि कोई गिर न पड़े। किसी को समझ नहीं आ रहा है कि क्या हो रहा है। इसलिए हमें उन लोगों को इस मामले को संभालने देना चाहिए जो इस मामले की जांच कर रहे हैं और इससे जुड़े हुए हैं ताकि यह मामला जल्दी सुलझ सके।’

About the author

शुचि गुप्ता

शुचि ऑनलाइन पत्रकारिता, प्रबंधन और सामाजिक मीडिया में एक मजबूत अनुभव के साथ एक समाचार मीडिया पेशेवर हैं| उनकी ताकत में ऑनलाइन मीडिया का ज्ञान, संभावित रुझान योग्य विषयों का पता लगाना, समाचार और वेब और मोबाइल के लिए कंटेंट की दक्षता का पता लगाना शामिल है।

Add Comment

Click here to post a comment