समाचार

लद्दाख में टकराव ले सकता है गंभीर मोड़, चीन की चालबाजी पर डोभाल की भी करीबी नजर

लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुआ टकराव (India-China faceoff) गंभीर मोड़ लेता दिखाई दे रहा है। चीन अब वहां सैनिकों और सैन्य साजोसामान की आक्रामक तैनाती (Aggressive deployment of China) कर चुका है। वहां के हालात पर भारत लगातार नजर बनाए हुए है। खुद एनएसए अजीत डोभाल वहां की स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए हैं।

मनु पब्बी, नई दिल्ली
लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए टकराव (India-China faceoff) को भले ही स्थानीय स्तर पर सुलझा लिया गया लेकिन मामला पूरी तरह शांत नहीं हुआ है। चीन ने सीमा पर बड़े पैमाने पर सैनिकों की तैनाती (Heavy deployment by China on border) कर दी है। बड़ी तादाद में मोटर बोट भी तैनात किए हैं। सूत्रों ने हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स को बताया कि हालात पर भारत के शीर्ष नेतृत्व की करीबी नजर है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं और हर एक गतिविधियों की जानकारी ले रहे हैं।

चीन का डर्टी गेम
चीन का यह डर्टी गेम उस वक्त चल रहा है जब पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है और इससे निपटने में लगी है। कोरोना वायरस चीन से पूरी दुनिया में फैला और अब यह मांग जोर पकड़ रही है कि वायरस के फैलने की अंतरराष्ट्रीय जांच हो और हजारों मौतों की जिम्मेदारी तय हो। ऐसे वक्त में चीन न सिर्फ जगह-जगह टकराव के जरिए इस मुद्दे से ध्यान भटका रहा है, बल्कि नेपाल को भी भारत के खिलाफ भड़का रहा है। माना जा रहा है कि लिपुलेख मामले (Lipulekh Mansarovar Link Road) में नेपाल को उकसाने में में चीन का ही हाथ है।
लद्दाख में चीन की तरफ से बढ़ी हलचल
भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच नोकझोक, टकराव आम बात है। सीमा पूरी तरह स्पष्ट नहीं है इसलिए पट्रोलिंग के दौरान जब भी दोनों देशों के सैनिकों का आमना-सामना होता है तो उनमें कभी हल्की तो कभी तीखी नोकझोक देखने को मिलती है। लेकिन इस बार का टकराव गंभीर रूप लेता जा रहा है। टकराव के बाद चीन ने अपनी ओर सैनिकों का जमावड़ा बढ़ा दिया है। चीन के सैनिक इस हफ्ते उसी क्षेत्र में सैन्य अभ्यास कर रहे थे। उस सैन्य अभ्यास में इस्तेमाल हो रहे भारी हथियारों, सैन्य साजोसामानों को भी चीन ने बॉर्डर पर तैनात कर दिया है।

अस्थायी ढांचों को भी चीनी सैनिकों ने पहुंचाया नुकसान
यह भी माना जा रहा है कि चीनी सैनिकों ने पैंगोंग सो लेक के किनारे अपनी-अपनी पोजिशन भी ले ली है और मोटरबोट के जरिए आक्रामक गश्ती कर रहे हैं। इतना ही नहीं, बताया जा रहा है कि भारतीय सेना ने जो अस्थायी ढांचा बना रखे थे, उन्हें भी नुकसान पहुंचाया गया है।
टकराव वाली जगह के 4 किमी दायरे में चीन ने की अतिरिक्त तैनाती
गलवान में जहां दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव हुआ, वहां चीन के सैनिक अब भी तैनात हैं। जवाब में भारत ने भी सैनिकों के जमावड़े को बढ़ा दिया है। जो रिपोर्ट्स आ रही हैं, उनके मुताबिक गलवान में टकराव वाली जगह के करीब 4 किलोमीटर के दायरे में चीन ने अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती कर दी है।

दौलत बेग ओल्डी में भारत के सड़क, पुल बनाने से चिढ़ा है चीन
सूत्रों ने बताया कि चीनी सैनिकों का संभावित निशाना दरबुकशियोक-दौलत बेग ओल्डी (DBO) रोड हो सकता है, जिसे भारत ने पिछले साल बनाया है। यह रोड सब सेक्टर नॉर्थ (SSN) के लिए जीवन रेखा की तरह है। हालांकि, चीन को किसी भी तरह की हिमाकत से रोकने के लिए भारत ने भी पर्याप्त संख्या में सैनिकों की तैनाती की है। सूत्रों ने बताया कि जमीनी स्थिति 1962 से जुदा है, जब चीनी सेना ज्यादा तादाद की वजह से बहुत भारी पड़ी थी।

About the author

Avatar

ऋषभ राजवंशी

आठ वर्ष के प्रासंगिक अनुभव के साथ लेखक, ऋषभ ने राजसमंद खबर की सह-स्थापना की है। उन्होंने कई समीक्षाएं, नवीनतम प्रौद्योगिकी समाचार लेख और उच्च-स्तरीय दस्तावेज लिखे हैं। आप rishabh[at]pdqmedia.in पर ऋषभ से संपर्क कर सकते हैं|

Add Comment

Click here to post a comment